जानें, भारत की रहस्यमयी झीलों के बारे में..

Take of no return: जानें, भारत की रहस्यमयी झीलों के बारे में..

Whatsapp पर ऐसे करें खुद के नंबर पर चैट, जानें…

Take of no return: आज हम आपको भारत की रहस्यमयी झीलो के बारे में, जिनके बारे में सुनकर आप चकित रह जाओगे| तो आइये जानते है-

Take of no return:- यह रहस्यमयी झील अरुणाचल प्रदेश में स्थित है। कहते हैं कि द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान अमेरिकी विमान के पायलटों ने यहां पर समतल जमीन समझकर आपातकालीन लैंडिंग करा दी थी, लेकिन उसके बाद वो जहाज पायलटों सहित रहस्यमयी तरीके से गायब हो गया था। बाद में इसी क्षेत्र में काम करने वाले अमेरिकी सैनिकों को झील और गायब होने वाले जहाज और पायलटों का पता लगाने के लिए भेजा गया, लेकिन वो भी वहां से वापस नहीं लौट सके। इस झील से जुड़ी एक और कहानी खूब प्रचलित है, जिसके अनुसार, द्वितीय विश्व युद्ध के बाद जापानी सैनिक वापस लौट रहे थे, लेकिन वो रास्ता भटक गये। वो जैसे ही झील के पास पहुंचे, वहां मौजूद रेत में धंस गये और रहस्यमयी तरीके से गायब हो गये। यहां अक्सर लोग घूमने के लिए आते रहते हैं, लेकिन झील के अंदर जाने की हिम्मत वो भी नहीं कर पाते हैं। कहते हैं कि इस झील के रहस्य का पता लगाने की काफी कोशिश की गई, लेकिन अब तक नाकामी ही हाथ लगी है।

रूपकुंड झील:- भारत के कई हिस्सों में ऐसी कई झील है, जहां आज भी हजारों सैलानी घूमने के लिए जाते रहते हैं। जैसे-पैंगोंग झील, पुष्कर सरोवर, बिंदु सरोवर, डल झील और कैलाश मानसरोवर झील। कुछ ऐसी भी झीले भारत में मौजूद जो वैज्ञानिकों और हजारों सैलानियों के लिए आज भी एक रहस्यमयी झील है। जैसे-महाराष्ट्र के बुलढाना जिले में स्थित लोनार झील। इस झील का पानी कभी गुलाबी तो कभी ग्रीन हो जाता है। कुछ इसी तरह उत्तराखंड के हिमालय में स्थित रूपकुंड झील भी एक रहस्यमयी झील बना हुआ है। कई लोगों का कहना है कि यह एक कंकालों की झील है, जहां 10 शताब्दी के कई कंकाल आज भी इस झील में मौजूद है।

Click Here For Free Test Series For SSC, Bank, Railway – Join Us Now

भारत का एक रेलवे स्टेशन जो एक लड़की के कारण 42 वर्षो तक रहा बंद..

कहाँ है ये झील:- समुद्र तल से लगभग 5,029 मीटर की ऊंचाई पर स्थित रूपकुंड झील त्रिशूली शिखर के बीच में मौजूद है। कहा जाता है कि यह जगह तक़रीबन छह माह बर्फ से ढकी रहती है। हाल के दिनों में इस झील को लेकर कुछ चर्चा हो रही है। कहा जा रहा है कि इस झील के आसपास नरकंकाल, अस्थियां, गहने, बर्तन, चप्पल और विभिन्न उपकरण आज भी बिखरे हुए हैं, जिसे देखर कंकाल झील और रहस्यमयी झील भी कहा जाने लगा है। कहा जाता है कि इस झील में लगभग 200 से अधिक कंकाल आज भी मौजूद है।

प्रचलित है कई दंत कथाएं:- इस झील में मिले कंकाल को देखकर कई जानकारों और शोधकर्ताओं के अलग-अलग अनुमान है। किसी का कहना है कि यह एक कब्रगाह है, जो भारतीय हिमालय क्षेत्र में लगभग 400 साल से भी अधिक प्राचीन कब्रगाह है। कहा जाता है कि ये लोग पूर्वी भूमध्यसागर के लोग हो सकते हैं। किसी का कहना है कि यह कंकाल किसी एक समय का नहीं बल्कि दो घटनाओं में मारे गए कुछ लोग हो सकते हैं। किसी का कहना है कि ये 400 साल से भी अधिक पुरानी और बताया जाता है कि ये अवशेष किसी तीर्थ यात्री दल के हैं।

Hair Care: ये घरेलु चीज अपनाकर पाएं काले लम्बे और घने बाल, जानें..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *