रोज 15 हजार से ज्यादा टूरिस्ट पहुंचे, अमेरिका के स्टेच्यू ऑफ लिबर्टी से 50% ज्यादा

Statue of Unity Tourists: रोज 15 हजार से ज्यादा टूरिस्ट पहुंचे, अमेरिका के स्टेच्यू ऑफ लिबर्टी से 50% ज्यादा

ऑनलाइन फ्रॉड और हैकिंग से बचना चाहते है तो आज से ही इन बातो पर अमल शुरू कर दें..

Statue of Unity Tourists: गुजरात के सरदार सरोवर डैम के पास स्थित दुनिया की सबसे ऊंची मूर्ति- स्टेच्यू ऑफ यूनिटी, का क्रेज दुनिया के दूसरे टूरिस्ट स्पॉट्स की तुलना में तेजी से बढ़ रहा है। अमेरिका के स्टेच्यू ऑफ लिबर्टी की तुलना में स्टेच्यू ऑफ यूनिटी देखने ज्यादा लोग पहुंच रहे हैं। यहां रोज पहुंचने वाले पर्यटकों का आंकड़ा इस साल मार्च में 15 हजार के पार हो गया था। इस दौरान स्टेच्यू ऑफ लिबर्टी देखने रोज करीब 10 हजार टूरिस्ट जा रहे थे।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 31 अक्टूबर 2018 को स्टेच्यू ऑफ यूनिटी को लॉन्च किया था। 1 नवंबर 2018 से 17 मार्च 2020 तक देश-विदेश के 43 लाख पर्यटक स्टेच्यू ऑफ यूनिटी देखने पहुंचे। इनसे करीब 120 करोड़ रुपए की कमाई हुई। वहीं, कोरोना महामारी के चलते इस साल 17 मार्च से 16 अक्टूबर तक के 8 महीने स्टेच्यू ऑफ यूनिटी पर्यटकों के लिए बंद रहा। अनलॉक-5 के दौरान 17 अक्टूबर से इसे दोबारा खोला गया और 27 अक्टूबर तक यानी की सिर्फ 10 दिनों में यहां 10 हजार पर्यटक पहुंचे।

एलोविरा त्वचा के साथ ही इन अन्य रोगो में भी रामबाण इलाज है, जानें..

Click Here For Free Test Series For SSC, Bank, Railway – Join Us Now

Statue of Unity Tourists: स्टेच्यू ऑफ यूनिटी देखने वाले पर्यटकों की संख्या लगातार बढ़ रही है। इसके आस-पास दूसरे टूरिस्ट स्पॉट खोलने की घोषणा के बाद से और भी तेजी आ गई। 31 अक्टूबर, 2018 के बाद से एक साल में ही यहां 24 लाख से ज्यादा पर्यटक पहुंचे। पहले साल में स्टेच्यू ऑफ यूनिटी की इनकम 63.69 करोड़ रुपए थी। वहीं, 2019 में देश के टॉप-5 स्मारकों की तुलना में स्टेच्यू ऑफ यूनिटी ने सबसे ज्यादा कमाई की।

स्टेच्यू ऑफ यूनिटी कैसे पहुंचें?

नर्मदा से सबसे नजदीक वडोदरा एयरपोर्ट है, जो स्टेच्यू ऑफ यूनिटी से 90 किमी दूर है। वडोदरा एयरपोर्ट से दूसरे राज्यों के साथ कनेक्टेड फ्लाइट्स हैं। करीबी रेलवे स्टेशन अंकलेश्वर है, स्टेच्यू ऑफ लिबर्टी से दूरी 90 किमी है।

इस व्यक्ति के पास थी ‘दिव्य शक्ति’, विज्ञान आज तक नहीं सुलझा पाया इसका रहस्य..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *