खेतों में नहीं पहुंच रहा था पानी, किसान ने आविष्कार से किया चमत्कार, देखें..

Farmer sets up waterwheel instrument: खेतों में नहीं पहुंच रहा था पानी, किसान ने आविष्कार से किया चमत्कार, देखें..

आप भी बार-बार उबालकर पानी पीते है, तो हो सकते है ये बड़े नुकसान..

Farmer sets up waterwheel instrument: ओडिशा के एक किसान के खेतों तक पानी नहीं आता था| कई बार अधिकारियों से गुहार लगाई लेकिन समस्या का हल नहीं हुआ| अंत में किसान ने हारकर ऐसा करिश्मा किया कि आसपास के लोग भी उसके इस देशी आविष्कार को देखने आ रहे हैं| दरअसल, ओडिशा के मयूरभंज जिले में एक ऐसी दिलचस्प घटना हुई है, जहां महुर टिपिरिया नाम के एक किसान ने नदी से 2 किलोमीटर दूर अपने खेतों में पानी ले जाने के लिए एक देशी जलपहिया का जुगाड़ बनाया है| ये जलपहिया बांस और लकड़ियों से मिलकर बनाया गया है| इसमें एक बड़ा सा गोल पहिया लगा हुआ है जो एक पवनचक्की की तरह पानी और हवा के बहाव से घूमता रहता है|

इस पहिये में किसान ने पानी पीने वाली बोतलें लगाई हैं| इन बोतलों के मुंह वाले हिस्से को ढक्कन से ही बंद रखा गया है, जबकि बोतल के निचले हिस्से को काटकर उसे एक खुले बर्तन की तरह बना लिया है, जिसमें पानी संग्रहित होता रहे, निकलता रहे| पहिये में जुड़ी हुई लकड़ियों से ऐसी तीस-चालीस बोतलें लगी हुई हैं| पहिया घूमता जाता है और इन बोतलों में पानी भरता जाता है|

दुनिया के इन 5 Cigarette Brands की कीमत सुनकर चकित रह जायेंगे आप, जानें..

Click Here For Free Test Series For SSC, Bank, Railway – Join Us Now

Farmer sets up waterwheel instrument: पहिये के बीच की ऊंचाई पर ही पास में एक संग्रहण केंद्र बनाया गया है, पानी की बोतलों का मुंह इस संग्रहण केंद्र की तरफ ही रखा गया है, पानी की बोतल जब भी इसके पास से गुजरती है तो पानी की बोतल में जमा हुआ पानी इस संग्रहण केंद्र में आकर गिरता जाता है| इस संग्रहण केंद्र में इकट्ठा हुआ पानी बांस से बनी हुई पम्पों से गुजरता हुआ चलता जाता है जो अंत में किसान के खेतों तक पहुंचता है| इस तरह दो किलोमीटर दूर स्थित स्थानीय नदी का पानी किसान के खेतों तक पहुंचने लगा है| इसे लेकर समाचार एजेंसी ANI ने एक ट्वीट भी किया है, जिसमें किसान के इस जलपहिया की वीडियो भी देखी जा सकती है|

किसान ने बताया, ”मैं एक गरीब आदमी हूं, मैंने बार-बार अधिकारियों से कहा कि मेरे खेतों में सिंचाई के लिए पानी की व्यवस्था करवाएं, लेकिन कोई मदद नहीं मिली, अंत में हारकर मैंने इसे बना लिया|”

सोशल मीडिया का उपयोग करते है तो सरकार की इस गाइडलाइन का हमेशा ध्यान रखना चाहिए..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *